Narendra Modi Biography in Hindi English | नरेंद्र मोदी का जीवन परिचय, जीवनी

Join whatsapp group Join Now
Join Telegram group Join Now

नरेंद्र मोदी का जीवन परिचय, जीवनी

आज नरेंद्र मोदी के बारे में कौन नहीं जानता है एक ऐसी शख्सियत और पहचान का नाम है नरेंद्र मोदी जो ना सिर्फ भारत में बल्कि विदेशों में भी इतने प्रसिद्ध हुए कि जिनके बारे में हम जितना भी बताएं वह कमी है | नरेंद्र मोदी भारत के 15 में प्रधानमंत्री के रूप में चुने गए और इनका ताल्लुक बीजेपी ( भारतीय जनता पार्टी) पार्टी से है | वर्ष 2014 मैं एक ऐसी लहर से आ गई बच्चों बच्चों तक की जुबान पर सिर्फ नरेंद्र मोदी का नाम आया था हम लोगों ने काफी पसंद भी किया और उन्हें प्रधानमंत्री के रूप में भी चुना हालांकि नरेंद्र मोदी भारी बहुमत से चुनाव को जीते | पुणे 2019 के चुनाव में भी भारतीय जनता पार्टी के साथ एक बार फिर से नरेंद्र मोदी ने बहुमत के साथ जीत हासिल की | मोदी लहर क्यों नहीं है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इतने बड़े बड़े वादे जो कर दिए थे मानो ऐसा लग रहा था जैसे सभी को एक उज्जवल भविष्य नरेंद्र मोदी जीतेंगे | हालांकि नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री से पहले भी भारत के विकास में अपना योगदान दिया है हालांकि नरेंद्र मोदी जी अच्छे कार्य भी किए हैं परंतु कुछ ऐसे कार्य भी किए हैं जिनकी वजह से सवालों के घेरे में है लेकिन इनकी बुद्धि की प्रशंसा सराआंखों पर की जाती है.

नरेंद्र मोदी ने अपने जीवन में किन महत्वपूर्ण कार्य को किया है और इनका जीवन अब तक कैसा रहा है इसके बारे में हम बातें करेंगे अपने इस पोस्ट के माध्यम से मैं सारी बातें आप तक पहुंच जाऊंगा तो हमारे साथ बने रहे |

  • भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी (15वें प्रधानमंत्री) का पूरा नाम (Full Name) नरेंद्र दामोदरदास मोदी है
  • अन्य नाम (Other Name) : मोदी जी, नमो
  • उम्र (age) : 68 साल
  • जन्म (Date of Birth) : 17 September 1950
  • जन्म स्थान (Birth Place) : वडनगर, बॉम्बे स्टेट ( इस समय गुजरात में है ) भारत में हुआ |
  • पेशा (profession) : राजनेता
  • राजनितिक पार्टी (political party) : BJP (भारतीय जनता पार्टी)
  • राष्ट्रीयता (Nationality) : भारतीय (Indian)
  • जाति (caste) : मोध घांची (obc)
  • धर्म (Religion) : हिन्दू (hindu)
  • राशि : कन्या
  • कद (hight) : 5फीट 7इंच
  • प्रधानमंत्री के रूप में तनख्वाह (salary) कितनी मिलती है 1लाख 60 हज़ार रूपये प्रतिमाह + अन्य भत्ता

नरेंद्र मोदी का जन्म और शुरुआती जीवन

भारत के 15वें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का जन्म 17 सितंबर 1950 को मेहसाना जिले के वडनगर नामक एक छोटे से टाउन में हुआ, इनके जन्म के समय यह मुंबई में आता था परन्तु अब ये गुजरात का क्षेत्र है | भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुरुआती जीवन काफी कठिन और संघर्षपूर्ण रहा है इसमें कोई संदेह वाली बात नहीं है क्योंकि इनके पिता एक सड़क व्यापारी थे जो थोड़ा बहुत काम करके अपने घर का खर्चा चला रहे थे नरेंद्र मोदी जी ने अपने भाइयों के साथ मिलकर और उनका सहयोग करने के लिए स्टेशनों पर और बस स्टॉप पर चाय भी बेंची जिससे क उनका घर चल सके | ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने बहुत ही संघर्ष वाला जीवन व्यतीत किया और आज उनका यह संघर्ष एक अवसर में तब्दील हो चुका है |

नरेंद्र मोदी जी के परिवार के सदस्य एवं परिचय

  • पिता का नाम (Father’s Name) : स्वर्गीय श्री दामोदरदास मूलचंद मोदी
  • माता का नाम (Mother’s Name) : हीरा बेन
  • पत्नी का नाम (Wife’s Name) : जशोदा बेन चिमनलाल मोदी
  • बच्चे : नहीं है 
  • भाई का नाम (Brother’s Name) : पंकज मोदी, प्रहलाद मोदी, सोमा मोदी, अमृत मोदी
  • बहन का नाम (Sister Name) : बसंती बिन हसमुखलाल मोदी

नरेंद्र मोदी अपने भाई बहनों में तीसरे नंबर के है, इन के सबसे बड़े भाई का नाम सोना मोदी है  जिनकी उम्र वर्तमान समय में 75 वर्ष है यह स्वास्थ्य विभाग में अधिकारी के रूप में कार्य भी कर चुके हैं नरेंद्र मोदी के दूसरे बड़े भाई अमृत मोदी हैं जो कि एक मशीन ऑपरेटर का कार्य करते हैं और इनकी उम्र लगभग 72 वर्ष है | इनके दो छोटे भाई भी हैं प्रहलाद मोदी जो गुजरात के अमदाबाद में एक दुकानदार है अपना खुद का शॉप चलाते हैं, सबसे छोटे भाई पंकज मोदी गुजरात के गांधीनगर में सूचना विभाग में एक क्लर्क है |

नरेंद्र मोदी का विवाह

नरेंद्र मोदी जी का विवाह मात्र 18 वर्ष की उम्र में सन 1968 में जशोदाबेन चिमनलाल से हुआ हालांकि मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार अभी कहां जाता है कि बिना तलाक हुये यह दोनों लोग अलग रहते हैं | नरेंद्र मोदी की पत्नी यशोदा बेन चिमनलाल सरकारी स्कूल में एक शिक्षिका के रूप में कार्य कर चुकी है अब यह रिटायर हो चुकी है | वर्तमान समय में नरेंद्र मोदी जी दिल्ली में रहते हैं |

शिक्षा एवं करियर

इन्होंने अपने शुरुआती शिक्षा अपने टाउन के ही स्कूल से किया और परिवार की स्थिति अच्छी न होने की वजह से अपने घर को छोड़ दिए |

नरेंद्र मोदी जी ने भारत का भ्रमण करना शुरू कर दिया ऋषिकेश वाले जैसे स्थानों पर भी गए पुणे मां से लौटने के बाद 1978 में दिल्ली में अपनी शिक्षा को बढ़ाने के लिए यूनिवर्सिटी में और गुजरात यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया |

राजनीतिक विज्ञान में स्नातक करने के बाद और यहीं से इन्होंने राजनीतिक करियर की शुरुआत की और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल होकर प्रचार करने लगे इस पार्टी को (आर यस यस) के नाम से जाना जाता है जिसका पूरा नाम राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ है एक हिंदू राष्ट्रवादी राजनीतिक दल है इसलिए इससे नरेंद्र मोदी को राजनीति में काफी मदद मिली |

हालांकि यह भी बताया जाता है कि जिस समय कांग्रेस की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल लगा दिया था उस समय नरेंद्र मोदी जी को अंदर ग्राउंड होना पड़ा था जो की गिरफ्तारी से बचने के लिए भेष बदल बदल कर घुमा करते थे और सरकार का विरोध करते रहे |

वर्ष 1987 में नरेंद्र मोदी जी भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए और पहली बार अमदाबाद में एक नगर पालिका चुनाव में भाजपा की जीत करवाई और यहीं से इनकी लोकप्रियता बढ़ने लगी और गुजरात के ही एक ब्रांच का महासचिव बनाया गया |

वर्ष 1990 में गुजरात में विधानसभा चुनाव में मजबूत पकड़ बना ली और 1995 के चुनाव में 121 सीटों को हासिल किया |

वर्ष 2001 में गुजरात के मुख्यमंत्री बने – नरेंद्र मोदी

नरेंद्र मोदी जी ने सन 2001 में विधानसभा का पहली बार चुनाव लड़ा और राजकोट में 2 में से 1 सीट पर विजय हासिल की और केशुभाई पटेल से लीडरशिप को हटाकर के नरेंद्र मोदी को दे दिया गया और इन्हें गुजरात का मुख्यमंत्री बनाया गया |

मुख्यमंत्री की शपथ 7अक्टूबर 2001 को ली और इस प्रकार से उन्होंने राजनीतिक कैरियर में पकड़ बना ली परंतु 2002 में गुजरात में एक भयंकर दंगा हुआ और इस दंगे में 58 लोगों की खुलेआम हत्या कर दी गई जो ट्रेन में आग लगाकर की गई थी इस ट्रेन में ज्यादातर हिंदू यात्री थे इसलिए ऐसा किया गया | हिंसा इतनी भड़क चुकी थी कि यही नहीं रुका और सांप्रदायिक दंगा का रूप ले ली इस दंगे में 900 से 2000 लोगों ने अपनी जान को यूंही गवा दिया इसका कोई मतलब नहीं था | और नरेंद्र मोदी पर पूरे आरोप लगाए गए इस दंगे के पीछे की वजह नरेंद्र मोदी को बताया गया जिससे नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा | सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2010 में एक रिपोर्ट के द्वारा नरेंद्र मोदी जी को ग्रीन सिग्नल दे दिया हालांकि यह भी बताया गया कि कोर्ट ने नरेंद्र मोदी के खिलाफ सभी सबूतों को छुपाया है खैर सच्चाई क्या है यह तो हमें भी नहीं पता है |

पुनः नरेंद्र मोदी जी को गुजरात का मुख्यमंत्री चुना गया | और इस बार इन्होंने बहुत अच्छे अच्छे कार्य करके अपनी पकड़ बना ली सबसे अधिक विकास पर जोर दिया भारत के सभी राज्यों में गुजरात सबसे अधिक विकासशील राज्य बना और चार बार गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किए | अब वह भारतीय जनता पार्टी के सबसे लोकप्रिय नेता बन गए और सबसे अधिक लोकप्रियता इनको मिलने लगे  |

प्रधानमंत्री तक का सफर कैसे तय किया

वर्ष 2014 के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के लीडर के रूप में नरेंद्र मोदी जी का चेहरा आया और उन्हें इसलिए लाया गया क्योंकि गुजरात में चार बार प्रधानमंत्री बन चुके थे और अच्छे कार्यों की वजह से इनकी लोकप्रियता भी बढ़ गई थी लोग इनके फैन हो चुके थे और मोदी लहर सी आ गई और क्यों ना आती इन्होंने इतने बड़े बड़े वादे जो कर दिखाएं वास्तव में अभी जो भारत की स्थिति है कोविड-19 में यह तो दुर्भाग्य की बात है | 2014 के चुनाव के दौरान नरेंद्र मोदी ने 437 चुनाव रैलियां की थी जी हां आपने सही सुना और इन्होंने ऐसे ऐसे मुद्दों को जनता के सामने रखा की जनता इनकी दीवानी हो गई वादी इतने बड़े बड़े जो थे और परिणाम भी यही हुआ बहुमत से जीत हासिल की भारत के प्रधानमंत्री के रूप में दिखा दिया |

2019 में पुनः भारतीय प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी जी का चेहरा नजर आया और इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी नेता ने दूसरी बार बहुमत हासिल की हो काफी सराहनीय बात है परंतु इस बात का दुख मुझे भी है कि आज भारत में रोजगार की कमी है लोग बेरोजगार बहुत ज्यादा है इस पर ध्यान बिल्कुल नहीं दिया जा रहा है और आवाज उठाने पर भी उसे दबाने का प्रयास किया जाता है  परंतु देश का युवा चाहे तो कुछ भी कर सकता है (आज किसान को परेशानी हो रही है, खेतों की जुताई, सिंचाई करना हो, खेत में बीज बोना हो या फिर खाद डालनी हो  या दवा डालनी हो सभी में बहुत अत्यधिक खर्च आता है जो कार्य कर रहे होते हैं उनकी मजदूरी को तो छोड़ दीजिए इतना खर्च आने के बावजूद एक किसान बिजली बिल लो या कोई कर्ज हो सभी से परेशान होकर आत्महत्या करता जा रहा है और अभी लगभग 6 महीने से ज्यादा हो रहे हैं किसान आंदोलन को जिसके राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत है सरकार किसानों की बात को मानने को तैयार नहीं है | जबकि सबसे अत्यधिक परेशानी का सामना किसानी करता है कितनी मेहनत करने के बाद अनाज उगाता होगा तब जाकर पूरा देश खाता है परंतु यह सब सारी बातें व्यर्थ है इससे सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंग रही है और इन बातों को वही समझ पाएगा जो खुद किसान के परिवार से संबंधित हो जिसका बाहरी कोई भी सोर्स ना हो )

यह तो थी नरेंद्र मोदी जी की कहानी आपको कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं |

    ||जय हिन्द ||