Cabinet Mission Yojana 1946 Constitution of India in Hindi | कैबिनेट मिशन योजना भारत का संविधान by Ritesh Yadav |All India Free Test

Join whatsapp group Join Now
Join Telegram group Join Now

Constitution of India in Hindi part2| भारत का संविधान by Ritesh Yadav |All India Free Test

आज सभी Exam में भारतीय संविधान (Indian Constitution) से प्रश्न पूछे ही जाते हैं चाहें आपका Group D की परीक्षा हो या चाहे UPSC की. लेकिन सबका पैटर्न अलग होता है और संविधान के आर्टिकल को याद करना मुश्किल लेकिन हम आसान बना कर आपकी तैयारी में छोटी सी मदद करने का प्रयास करेंगे. परीक्षा में किस आर्टिकल से प्रश्न आते हैं और क्या पूछा जाता हैं हम उसके आधार पर आपको नोट्स भी देंगे और आप चाहें तो फ्री में पढ़ कर बना भी सकते हैं.

Cabinet mission yojana 1946

कैबिनेट मिशन योजना के तहत भारतीयों की मांग को स्वीकार कर लिया गया और इसमें भाग लेने वाले सदस्यों की संख्या 3 थी।
  1. एवी एलेग्जेंडर (नौसेना)
  2. पैथिक लारेन्स (भारत सचीव)
  3. स्टेफोर्ड क्रिप्स (व्यापार बोर्ड के अध्यक्ष)
संविधान सभा में 389 सदस्य निर्वाचित किए गए थे जिसमें से 292 सदस्य ब्रिटिश प्रांत से एवं 93 सदस्य देसी रियासतों से शामिल किए गए थे इसके अलावा चार अन्य सदस्य कमिश्नरी  क्षेत्र से निर्वाचित थे।
दिल्ली, कुर्ग (कर्नाटक), अजमेर और बलुचीस्तान।
यह निर्वाचन प्रांतीय विधानसभाओं के सदस्यों के द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से हुआ था .
अब आगे हम आपको बताएंगे कि किस पार्टी को कितना सीट मिला –
S. N. सीटों की संख्या  पार्टी /समुदाय 
1.       208  कांग्रेस 
2.       73   मुस्लिम लीग 
3.       15  महिला 
4.       15  अन्य 
5.       26  अनुसूचित जाति 
6.       33   अनुसूचित जनजाति 

संविधान सभा की बैठक

संविधान सभा की पहली बैठक 9 दिसंबर 1946 को किया गया जिसके अस्थाई अध्यक्ष के रूप में सच्चिदानंद सिन्हा को चुना गया । डॉ सच्चिदानंद सिन्हा को चुनने का मुख्य वजह यह था कि वह सबसे वरिष्ठ थे।
11 दिसंबर 1946 को संविधान सभा की दूसरी बैठक हुई और इसमें स्थाई अध्यक्ष के रूप में डॉ राजेंद्र प्रसाद को चुना गया।
H.C. मुखर्जी, टी. कृष्णामाचारी को संविधान सभा का उपाध्यक्ष बनाया गया।
श्री बी. एन. राव को प्रथम संवैधानिक सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया।
13 दिसंबर 1946 को संविधान सभा में पंडित जवाहरलाल नेहरु के द्वारा उद्देश्य प्रस्ताव को लाया गया।
उद्देश्य प्रस्ताव को 22 जनवरी 1947 को स्वीकार कर लिया गया।
अब हम निर्वाचित 15 महिलाओं के बारे में बात करेंगे – यहां से प्रश्न परीक्षा में किस प्रकार से पूछा जा सकता है वो भी बताएंगे –

1.  दुर्गा बाई 
2.  हंसा मेहता 
3.   सरोजनी नायडू 
4.  राजकुमारी अमृत कौर 
5.  सुचेता कृप्लानी 
6.  विजया लक्ष्मी पंडित 
7.  पूर्णिमा बेनर्जी 
8.   कमला चौधरी 
9.  एनी मस्करीन 
10.   मालती चौधरी 
11.  रेणुका राय 
12.  अम्मू स्वामीनाथन 
13.  दक्षयानि वेल्यादुन 
14.  लीला रे 
15.  बेगम एजाज रसूल 

इन सभी महिला सदस्यों में एक मात्र मुस्लिम महिला थीं बेगम एजाज रसूल थीं, यहां से यही प्रश्न बार बार आता है याद रखें इस महत्वपूर्ण प्रश्न को.
  • संविधान के निर्माण में 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय लगा था इसे बनाने में लगभग 64 लाख रुपए का खर्च लगा था।
  • संविधान में 395 अनुच्छेद और 8 अनुसूची तथा 22 भाग बनाए गए थे।
  • वर्तमान में लगभग 475 अनुच्छेद और 12 अनुसूची तथा 25 भाग हैं।

प्रारूप समिति

संविधान में बनाए गए प्रावधानों पर चर्चा करने के लिए प्रारूप समिति का गठन किया गया इसमें कुल 7 सदस्य थे और इसका गठन 29 अगस्त 1947 को किया गया था।
7 सदस्य इस प्रकार हैं –
  1. डॉक्टर भीमराव अंबेडकर (अध्यक्ष)
  2. एन. गोपाल स्वामी आयंगर
  3. अल्लादी कृष्णस्वामी अय्यर
  4. कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी
  5. डीपी खेतान
  6. एन. माधव राव
  7. सैयद मोहम्मद सातुल्लाह
  • 26 नवंबर 1949 को संविधान अंगीकृत अधिनियमित वह आत्मा अर्पित किया गया।
  • इस दिन सभी अनुच्छेदों को लागू न करके सिर्फ 16 अनुच्छेदों को लागू किया गया।
यह 16 अनुच्छेद निम्न हैं –
अनुच्छेद 5,6,7,8,9,60,324,366,367,379,380,388,391,392,393,394

नोट (Note)-

बी एल मिश्र के त्यागपत्र देने के बाद एन माधव राव को सदस्य बना लिया गया।
डीपी खेतान के देहांत के बाद टी. कृष्णमचारी को सदस्य बनाया गया था।
 संविधान के समस्त प्रारूपों पर 114 दिन की बहस चली और 284 सदस्यों ने प्रारूप पर हस्ताक्षर करके अपनी सहमति प्रदान इनमें कुल 8 महिला सदस्य ने भी हस्ताक्षर किया था।
ऐसा कहा गया 26 नवंबर को विधि दिवस के रूप में मनाया जाएगा परंतु वर्ष 2015 से नरेंद्र मोदी सरकार ने संविधान दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया।
24 जनवरी 1950 को संविधान सभा की अंतिम बैठक हुई।
इस प्रकार 26 जनवरी 1950 को संविधान पूरी तरह से लागू किया गया और तभी से हम गणतंत्र दिवस के रूप में मानते हैं।
भारत के संविधान को उधार का थैला कहा जाता है क्योंकि भारतीय संविधान को बनाने के लिए अन्य देशों के संविधान के स्रोत को लिया गया है जिसके बारे में हम अगले भाग में पोस्ट करेंगे। अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगती है तो आप इसे अपने दोस्तों में भी शेयर करें।

FAQs

Q.1 संविधान सभा की प्रथम बैठक कब हुई थी ?
Answer : 9 दिसंबर 1946 को
Q. 2 संविधान सभा की दूसरी बैठक कब हुई थी ?
Answer : 11 दिसंबर 1946 को
Q. 3 संविधान सभा में उद्देश्य प्रस्ताव कब लाया गया ?
Answer : 13 दिसंबर 1946 को
Q. 4 उद्देश्य प्रस्ताव को संविधान सभा में किसने पेश किया था ?
Answer : पंडित जवाहरलाल नेहरू ने
Q. 5 उद्देश्य प्रस्ताव कब स्वीकार किया गया था ?
Answer : 22 जनवरी 1947
Q. 6  संविधान सभा की प्रथम बैठक में अस्थाई अध्यक्ष किसे चुना गया था ?
Answer : सच्चिदानंद सिन्हा को
Q. 7 संविधान सभा के स्थाई अध्यक्ष कौन थे ?
Answer : डॉ राजेंद्र प्रसाद
Q. 8 प्रारूप समिति के अध्यक्ष कौन थे ?
 Answer : डॉ भीमराव अंबेडकर
Q. 9 प्रारूप समिति का गठन कब किया गया था ?
Answer : 29 अगस्त 1947 को
Q. 10 संविधान सभा की अंतिम बैठक कब हुई थी ?
Answer : 24 जनवरी 1950
Q. 11 गणतंत्र दिवस कब मनाया जाता है ?
Answer : 26 जनवरी ( 26 जनवरी 1950 को संविधान पूर्ण रूप से लागू किया गया था )
Q. 12 मूल संविधान में कितने अनुच्छेद अनुसूची और भाग थे ?
Answer : 395 अनुच्छेद, 8 अनुसूची और 22 भाग
उम्मीद है आपके मन में आने वाले सभी प्रश्नों के जवाब हमने दे दिए हैं और यह सभी प्रश्न परीक्षा में पूछे जाएंगे यह सोचकर आप अपनी तैयारी को बनाए रखें अगली पोस्ट में हम संविधान के स्रोत के बारे में बताएंगे. अगर आपका कोई प्रश्न है तो आप हमसे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं और आप हमारा टेलीग्राम ग्रुप ज्वाइन करना बिल्कुल मत भूलिए वहां पर सारी अपडेट दी जाती है और पीडीएफ फाइल भी आप को दिया जाता है।
इन्हें भी पढ़ें –
जय हिन्द 🙏