घोष एवं अघोष वर्ण में क्या अन्तर है | Ghosh and Aghosh in Hindi | free notes

Join whatsapp group Join Now
Join Telegram group Join Now

Ghosh and Aghosh in Hindi : इस लेख में घोष और अघोष क्या है? घोष और अघोष की परिभाषा एवं उदाहरण, घोष एवं अघोष वर्ण में क्या अंतर है? (Ghosh and Aghosh in hindi), घोष और अघोष किसे कहते हैं? घोष एवं अघोष की पहचान करने की ट्रिक | Ghosh aur Aghosh hindi Vyakaran के बारे में जानेंगे।

घोष एवं अघोष वर्ण में क्या अन्तर है | Ghosh and Aghosh in Hindi

हिंदी वर्णमाला में कुछ वर्ण अघोष की श्रेणी में आते हैं तथा कुछ सघोष। लेकिन घोष एवं अघोष में क्या अन्तर है? इन्हें कैसे पहचाने तथा अघोष और घोष को याद करने की ट्रिक क्या है जानने से पहले घोष की परिभाषा और अघोष की परिभाषा को समझ लेते हैं.

हिंदी व्याकरण में स्वर और व्यंजन वर्णों का कंपन के आधार पर दो भेद होते हैं। इसमें पहला अघोष दूसरा घोष होता है।

अघोष की परिभाषा (aghosh ki pribhasha) – जिन वर्णों के उच्चारण में स्वर तंत्र में कंपन नहीं होता है उन्हें अघोष वर्ण कहते हैं।

  • हिंदी वर्णमाला में प्रत्येक वर्ग का पहला वर्ण, दूसरा वर्ण तथा उष्म व्यंजन वर्ण अघोष होते हैं।
प्रथम वर्ग  द्वितीय वर्ग  ऊष्म व्यंजन वर्ण 
——-
——-

 

घोष या सघोष की परिभाषा (ghosh ki pribhasha) – जिन वर्णों के उच्चारण में स्वर तंत्र में कंपन होता है उन्हें घोष या सघोष वर्ण कहते हैं।

  • सभी स्वर सघोष होते हैं  (अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ)
  • प्रत्येक वर्ग का तृतीय, चतुर्थ, पंचम वर्ण, अंतःस्थ और ह।
तृतीय वर्ग  चतुर्थ वर्ग  पंचम वर्ग  अंतःस्थ वर्ण  सभी स्वर 
अ आ
इ   ई
उ  ऊ
——- ए   ऐ
—— —— —— ओ औ
घोष एवं अघोष वर्ण में क्या अन्तर है | Ghosh and Aghosh in Hindi
घोष एवं अघोष | Ghosh and Aghosh in Hindi |

घोष एवं अघोष वर्ण में अन्तर | Ghosh and Aghosh in Hindi

घोष वर्ण तथा अघोष वर्ण में निम्न अन्तर होते हैं।

घोष वर्ण अघोष वर्ण 
  1. घोष वर्णों के उच्चारण में स्वरयंत्री में कंपन/ झंकृत होता है।
  2. इनके उच्चारण में नाद का प्रयोग होता है।
  3. सभी स्वर, प्रत्येक वर्ग का तृतीय, चतुर्थ, पंचम वर्ण, अंतःस्थ और ह सघोष होते हैं।
  1. अघोष वर्णों के उच्चारण में स्वरयंत्री में कंपन नहीं होता है।
  2. जबकि इन वर्णों के उच्चारण में केवल स्वास का प्रयोग होता है।
  3. प्रत्येक वर्ग का पहला वर्ण, दूसरा वर्ण तथा उष्म व्यंजन वर्ण अघोष होते हैं।

 

FAQ : घोष और अघोष (Ghosh And Aghosh)

Q. अघोष किसे कहते हैं?

Ans :- जिन वर्णों के उच्चारण में स्वर तंत्र में कंपन नहीं होता है उन्हें अघोष वर्ण कहते हैं। प्रत्येक वर्ग का पहला वर्ण, दूसरा वर्ण तथा उष्म व्यंजन वर्ण अघोष होते हैं।

Q. घोष या सघोष किसे कहते हैं?

जिन वर्णों के उच्चारण में स्वर तंत्र में कंपन होता है उन्हें घोष या सघोष वर्ण कहते हैं। सभी स्वर तथा प्रत्येक वर्ग का तृतीय, चतुर्थ, पंचम वर्ण, अंतःस्थ और ह सघोष कहलाते हैं।

Q. क्या सभी स्वर सघोष होते हैं?

Ans :- हाँ सभी स्वर सघोष होते हैं। (अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ)

अघोष की ट्रिक – 12 तथा श ष स (ऊष्म)

घोष की ट्रिक – 345 तथा सभी स्वर एवं ह।

इन्हें भी पढ़ें......
  • अल्पप्राण और महाप्राण किसे कहते हैं
  • हिंदी वर्णमाला स्वर तथा व्यंजन
  • वर्तनी क्या होती है
  • सन्धि के प्रकार और सन्धि विच्छेद
  • स्वर सन्धि और स्वर सन्धि के प्रकार
  • व्यंजन सन्धि और व्यंजन सन्धि के प्रकार
  • विसर्ग सन्धि कैसे पहचाने
  • वर्ण विच्छेद, वर्ण पलवन, वर्ण विभेदन
  • संज्ञा की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • भाववाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  • जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  • व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  • सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • संबंधवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  • निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  • प्रश्नवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  • अनिश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  • निश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  • पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • परिमाणवाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • गुणवाचक विशेषण की परिभाषा और उदाहरण
  • सार्वनामिक विशेषण की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  • विशेष्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  • क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • सामान्य क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  • पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा एवं उदाहरण
  • संयुक्त क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • नामधातु क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  • अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  • सकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • प्रेरणार्थक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
EBOOK Notes डाउनलोड करने के लिये click करें
  • समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • अव्ययीभाव समास की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  • द्विगु समास की परिभाषा और उदाहरण
  • कर्मधारय समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • बहुव्रीहि समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • द्वन्द्व समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • तत्पुरुष समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  • वाक्य की परिभाषा, भेद एवं उदहारण
  • साधारण वाक्य की परिभाषा एवं उदहारण
  • संयुक्त वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  • मिश्र वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  • उत्क्षिप्त व्यंजन
  • संघर्षहीन व्यंजन
  • प्रकम्पित व्यंजन
  • संघर्षी व्यंजन
  • स्पर्श व्यंजन
  • नासिक्य व्यंजन
  • स्पर्श संघर्षी व्यंजन
  • पार्श्विक व्यंजन
  • विराम चिह्न की परिभाषा, भेद और नियम
  • योजक चिह्न
  • अवतरण चिह्न
  • अल्प विराम
  • पूर्ण विराम चिह्न
  • उपसर्ग
  • प्रत्यय
  • शब्द-विचार
  • कारक
  • विलोम शब्द
  • पर्यायवाची शब्द
  • तत्सम एवं तद्भव शब्द
  • सम्बन्धबोधक अव्यय
  • समुच्चयबोधक अव्यय
  • विस्मयादिबोधक अव्यय
  • वाक्यांश के लिए एक शब्द
  • हिंदी लोकोक्तियाँ
  • भाव वाच्य
  • कर्तृ वाच्य
  • कर्म वाच्य
  • प्रैक्टिस सेट

निष्कर्ष :- इस लेख में अपने जाना अल्पप्राण और महाप्राण किसे कहते हैं (alppran mahapran in hindi) उदाहरण, अन्तर free notes उम्मीद हैं आपको यह पोस्ट पसंद आयी होगी। इसे शेयर करें और home page पर जाएं। धन्यवाद।

 

आप किस परीक्षा की तैयारी कर रहें हैं अपने सुझाव और प्रश्न कमेंट में लिखें