बालविकास वंशानुक्रम और पर्यावरण | Heredity And Environment

वंशानुक्रम और पर्यावरण Heredity And Environment

बालविकास का एक  महत्वपूर्ण टॉपिक वंशानुक्रम और पर्यावरण (Heredity And Environment) है। आप जानेंगे वंशानुक्रम क्या है (what is Heridity) और वातावरण क्या है (what is Environment)। CTET UPTET STET परीक्षा की तैयारी के लिये इस लेख को अंत तक पढ़ें।

वंशानुक्रम क्या है ? what is Heridity Definition in Hindi

प्रायः अपने माता पिता एवं पूर्वजो के द्वारा एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी मे स्थानांतरित किए जाने वाले गुणो के योग को वंशानुक्रम कहते है। यह एक जन्मजात योग्यता है इसे सीखा एवं अर्जित नहीं किया जा सकता है. अब जानेंगे वंशानुक्रम एवं वातावरण (Heredity And Environment) की परिभाषा और महत्व.

Join whatsapp group Join Now
Join Telegram group Join Now

वंशानुक्रम की परिभाषा (Definition of Heridity)

मनोवैज्ञानिकों ने बाल विकास में वंशानुक्रम और पर्यावरण की अलग अलग परिभाषायें दी हैं जो निम्न हैं-

जेम्स ड्रेवर के अनुसार – वंशानुक्रम शारीरिक एवं मानसिक विशेषताओ को एक पीढ़ी से दूसरे पीढ़ी में यानि कि माता – पिता से उनके बच्चों मे गुणों का स्तांतरण होने से है.

इसे भी पढ़ेंबाल विकास की विभिन्न आवस्थाएं 

Join whatsapp group Join Now
Join Telegram group Join Now

 

वुडवर्थ के अनुसार–  वंशानुक्रम मे वे सभी चीजे समाहित होती है जो जीवन के प्रारम्भ समय से नहीं बल्कि जन्म के 9 माह पूर्व गर्भाधान के समय उपस्थित रहते हैं।

प्रायः आनुवांशिक गुणो का हस्तनान्तरण एक पीढ़ी से दूसरे पीढ़ी मे पैतृक/जीन्स/ कारक के द्वारा होता है। इनमें पैतृक गुण सूत्रो के अंश पाए जाते हैं। मनुष्यों मे कुल 23 जोड़े गुण सूत्र या संख्या में 46 होते है और पुरुषो का 23वां जोड़ा गुण सूत्र लिंग निर्धारक गुण सूत्र कहलाता है. वंशानुक्रम एवं वातावरण (Heredity And Environment) दोनों जरूरी है बालक के विकास के लिये.

जबकि वर्णांधता और हीमोफीलिया एक आनुवांशिक रोग है इसमें क्रमशः रंगो मे अंतर करना एवं रक्त का जमना बाधित रहता है। इन आनुवांशिक रोगों की वाहक महिलाएं होती है इसका मुख्य प्रभाव पुरुषों पर दिखाई पड़ता है।

इसे भी पढ़ें – समाजीकरण का महत्व 

वंशानुक्रम के नियम (Vanshanukram ke niyam)

आप जानेंगे वंशानुक्रम के मुख्य नियम क्या हैं –

  • निरन्तरता का सिद्धान्त के प्रतिपादक वीजमैन हैं
  • उपार्जित लक्षणो का सिद्धान्त लैमार्क ने दिया
  • बायोमैट्रिक का सिद्धान्त गाल्टन ने दिया
  • प्रभावित और पृथककरण का सिद्धान्त के प्रतिपादक मेंडल हैं
  • प्रकृति चयन का सिद्धान्त डार्विन ने दिया
  • समानता के नियम
  • चयनात्मक गुणो का नियम
  • विभिन्नता के नियम
  • प्रत्यागमन का नियम
  • वंशानुक्रम के सिद्धान्त

वातावरण का अर्थ एवं परिभाषा (What is Environment Definition in Hindi)

यद्यपि वातावरण (What is Environment Definition in Hindi) से आशय हमारे चारो ओर के परिवेश से है। जिसका प्रभाव हम पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से पड़ता है।
प्रायः वातावरण के लिए पर्यावरण शब्द का भी प्रयोग किया जाता है। पर्यावरण शब्द मुख्य रूप से दो शब्दों से मिलकर बना है परि + आवरण
परि का अर्थ होता है – ‘चारो ओर’ और आवरण का अर्थ होता है– ‘ढकने वाला’ अर्थात हमारे चारों ओर का ऐसा क्षेत्र जिसका प्रभाव हम पर सीधा या किसी रूप में पड़ता है उसे हम वातावरण कहते हैं.

इसे भी पढ़ें – समाजीकरण क्या है 

 

वंशानुक्रम और पर्यावरण Heredity And Environment
वंशानुक्रम और पर्यावरण Heredity And Environment

वातावरण की परिभाषा (Definition of Environment)

वुडवर्थ के शब्दों में “वातावरण मे वे सभी वाह्य तत्व आ जाते हैं जिन्होने जीवन प्रारम्भ करने के समय से व्यक्ति को प्रभावित किया हो’

In the words of Woodworth, “Environment includes all those external elements which have influenced the individual from the time of starting his life’

रास के शब्दों में – ‘वातावरण (Environment) वह बाहरी शक्ति है जो हमे प्रभावित करती है’

In the words of Ras – ‘Environment is that external force which affects us’

इस प्रकार हम कह सकते हैं कि विकास की प्रक्रिया मे वंशानुक्रम (Heridity) बीज के समान होता है और वातावरण (Environment) उस बीज के विकास की सम्भावना का निर्धारण करने वाला या पोषण करने वाला होता है।

बालक के विकास के लिये अच्छे वातावरण और वंशानुक्रम बहुत जरूरी हैं। वंशानुक्रम में जो गुण माता पिता से बालक के अन्दर आते हैं वह उसके जीवन पर प्रभाव डालते हैं वही अच्छा वातावरण भी उतना ही आवश्यक है जितना कि वंशानुक्रम.

इसे भी पढ़ें…

इसे भी पढ़ें…

आज के लेख में अपने जाना वंशानुक्रम और पर्यावरण (Heredity And Environment) क्या है। ऐसे लेख और प्रैक्टिस के लिए visit करें Allindiafreetest.Com पर.